जानिये, कौन हैं देश के सबसे धनवान मुख्यमंत्री




एन चंद्रबाबू नायडू

 

राजेश राज

 

आँध्रप्रदेश दक्षिणा भारतीय राज्यों में सबसे ज्यादा प्रति व्यक्ति आय वाला राज्य ही नहीं, बल्कि देश के सबसे धनवान मुख्यमंत्री वाला राज्य भी बन गया है।

जी हां, लोकतंत्र में पारदर्शिता के लिए काम करने वाली संस्था एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म की हालिया रिपोर्ट यही बयां करती है। सभी 29 राज्यों के मुख्यमंत्रियों की संपत्तियों के विश्लेषण के बाद तैयार रिपोर्ट में 177 करोड़ रुपये की चल-अचल संपत्ति के साथ मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू देश के सबसे धनवान मुख्यमंत्री बन गए हैं।

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म की रिपोर्ट के मुताबिक, 12 करोड़ 6 लाख की संपत्ति के साथ ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक इस सूची में सातवें स्थान पर आए हैं। त्रिपुरा के मुख्यमंत्री मानिक सरकार के पास सबसे कम संपत्ति है। महज 26 लाख की चल-अचल संपत्ति के साथ उन्हें देश के सभी मुख्यमंत्रियों में सबसे ‘गरीब’ माना गया है।

दरअसल, यह रिपोर्ट मुख्यमंत्रियों द्वारा शपथ पत्र प्रस्तुत कर दी जानकारी पर आधारित है। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म ने इसका विश्लेषण कर अपनी रिपोर्ट पेश की है। इस रिपोर्ट की कई पहलू काफी दिलचस्प है। 29 में से 25 मुख्यमंत्रियों की संपत्ति 1 करोड़ से ज्यादा की है।

2 मुख्यमंत्रियों की दौलत 100 करोड़ से उपर की है जबकि 6 मुख्यमंत्रियों की दौलत 50 से 10 करोड़ के बीच और 17 मुख्यमंत्रयों की संपत्ति 1 से 10 करोड़ के बीच है। दिलचपस्प बात ये कि देश के 18 राज्यों में सरकार चलाने वाली बीजेपी पार्टी का एक भी मुख्यमंत्री सबसे धनवान मुख्यमंत्री की टॉप टेन लिस्ट में नहीं है।

10 सबसे धनवान मुख्यमंत्रियों में 6 कांग्रेस के ही हैं। बाकी चार टीडीपी, टीआरएस, बीजेडी और एसडीएफ जैसी क्षेत्रीय पार्टी के मुख्यमंत्री हैं। सबसे गरीब मुख्यमंत्री यानी जिनकी संपत्ति 1 करोड़ से भी कम हैं, उनमें पांच बीजेपी से, 2 सीपीआई(एम) से और एक-एक मुख्यमंत्री तृणमूल कांग्रेस और जनता दल(यूनाइटेड) पार्टी से ताल्लुक रखते हैं।

बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी की संपत्ति 30 लाख से थोड़ा ही ज्यादा है। इस तरह ममता बनर्जी भी ‘सबसे गरीब मुख्यमंत्रियों’ की सूची में दूसरे स्थान पर हैं।

ये हैं सबसे धनवान मुख्यमंत्री

1. एन चंद्रबाबू नायडू- आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री 177 करोडड़ 48 लाख की चल-अचल संपत्ति रखते हैं। इनमें 134.80 करोड़ की चल संपत्ति और 42.68 करोड़ की अचल संपत्ति है।

2. पेमा खांडू- अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू की कुल संपत्ति 129 करोड़ 57 लाख रुपये की है। सबसे धनवान मुख्यमंत्री की लिस्ट में दूसरे स्थान पर।

3. अमरिंदर सिंह- पंजाब के मुख्यंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपनी कुल संपत्ति 48.31 करोड़ रुपये घोषित की है। इसमें 42 करोड़ की संपत्ति अचल है।

4. के चंद्रशेखर राव- तेलांगाना के मुख्यमंत्री केसीआर यानि के चंद्रशेखर राव टॉप टेन धनवान मुख्यमंत्री की लिस्ट में चौथे स्थान पर हैं। इनकी कुल संपत्ति 15.51 करोड़ रुपये की है।

5. मुकुल संगमा- मेघालय में चार बार के विधायक और दस सालों से मेघालय के मुख्यमंत्री रहे मुकुल संगमा भी टॉप टेन लिस्ट में हैं। इनकी चल-अचल संपत्ति 14.50 करोड़ की है।

6. सिद्धारमैया- कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धाररमैया देश के छठवें सबसे धनवान मुख्यमंत्री बने हैं। दो बार उप मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं। दूसरी बार मुख्यमंत्री बनने के लिए फिलहाल चुनावी प्रचार में पसीना बहा रहे हैं। इनकी कुल दौलत है 13 करोड़ 6 लाख रुपये।

7. नवीन पटनायक- मोदी लहर को दीवार बन कर रोक देनेवाले ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक देश के सातवें सबसे धनवान मुख्यमंत्री हैं। चल अचल संपत्ति की कुल कीमत है 12 करोड़ 6 लाख रुपये।

8. पवन कुमार चामलिंग- सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट के संस्थापक और चार बार से सिक्किम में लगातार पांच बार से मुख्यमंत्री बने रहने वाले पवन कुमार चामलिंग की कुल संपत्ति 10 करोड़ 7 लाख की है। सिक्किम के ये मुख्यमंत्री पवन चामलिंग किरण नाम से नेपाली भाषा के जाने माने लेखक भी हैं।

9. वी नारायण स्वामी- वी नारायण स्वामी वैसे तो 2016 में ही पुडुचेरी के मुख्यमंत्री बनाए गए, लेकिन यूपीए काल में वो केंद्रीय राज्य मंत्री रह चुके है। इनकी कुल दौलत है 9.56 करोड़ रुपये।

10. लाल थानहावला- टेन धनवान मुख्यमंत्रियों की सूची के आखिरी पायदान पर मिजोरम के मुख्यमंत्री हैं। 9 बार चुनाव जीतने वाले और 5 बार मुख्यमंत्री रहने वाले इस मुख्यमत्री की कुल संपत्ति है – 9 करोड़ 15 लाख रुपये।