सामाजिक

कहानी : जन्तर का मन्तर

Share on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on Twitter0
Read in less then a minute

digital-art

अमित राजपूत

भोर झड़ रही है। आसमान पर दूर.. वहां पीपल के पेड़ के उस पार से झांकते ललमुंहे सूरज के पीछे-पीछे कुछ चिड़ियों का झुंड इधर ही चला आ रहा है। यहीं पास के बइलहा तारा पर रहने वाली बतख्खें अपनी अजां में लग गयी हैं।

हरश्रृंगार के पेड़ जिसकी डालियां बइलहा तारा की ओर झुकी हुयी हैं, पर लदे उसके सभी फूलों ने तालाब को अपना समर्पण कर दिया है।

इस तालाब के पानी का ये श्रृंगार हर रोज़ होता है। फूलों की सुगन्ध से मदहोस इसके पानी ने रोज़ की तरह आज फ़िर प्रेम के गीत गाने शुरू कर दिये हैं। इस गीत पर बतख्खों की अज़ां मिलने से एक साज सा बजने लगा है, जिसे सुनकर सूरज भागा चला आ रहा है जो चुपचाप पोखर में उतर कर चुपचाप बैठ गया है।

अचानक कहीं से पायज़ेब के बजने की आवाज़ आ रही है। इसे सुनकर पोखर में बैठे सूरज में हलचल हुयी और पोखर के बगल में खड़े सरपत(खर-पतवार) के उस पार खेत में बैठे बिजइया में भी। बिजइया तलाय फिर रहा है। उसने उचक कर सरपतों के बीच से देखा तो गांव की ही रनिया बइलहा तारा में मूंज भिगोने आयी है।

मूंज ढेर कुछ ही देर में बिजइया तलाय फिर चुका। वह तारा में शौचना चाहता है। पर, शौचे तो कैसे? तारा के उस पार रनिया खड़ी है। ‘रनिया मुई-खानी इत्ती सबेरे-सबेरे हिंया कहां उफरे चली आई हय।

जानत ही कि मढ़इन के तलाय जाय का टैम हवे। ऊपर से देखो एहिका टरतो नहीं आय।’ बिजइया मन ही मन रनिया को कोस रहा था। रनिया मूंज के ढेरों को तालाब में डालकर वहीं बैठ गयी।

उसकी नज़रे तालाब के उस पार हरश्रृंगार के पेड़ को देख रही थीं। वास्तव में वो नज़रें देख क्या रही थीं, कुछ ढूंढ़ सा रही थी रनिया हरश्रृंगार के पेड़ में। वो अपनी गर्दन लफा-लफा कर पेड़ से बातें सी करने को उठती।

उस पेड़ के ठीक सामने बिजइया सरपत की मेंड़ के उस पार खेत पर ‘य हरामखोर मोहिका देख लइगेहे का? मगर य उचक-उचक के मोहिका कहे ताड़त ही..? देखले… देखले एहिका!’ बिजइया चुपचाप सरपत की आड़ में दुबका जा रहा था और ख़ुद से सवाल करता जाता।

रनिया अब अपना सिर पीट रही थी और हाथ से बुलाने का कुछ इशारा भी करने लगी। अब तो बिजइया हैरान था! ‘निर्लज्ज लड़की तोरे बाप के उमर का हों मै। य भाई बदनाम करदेई छोकरी। न य हिंया से टरी अ न मैं शउंच पइहों। ससुर शउंचे के चक्कर मा इज्जत गंवा बइठिहों मैं।

लाओ ढेलेन से निपट के खसकी हिंयन से, कहे से कि आज-काल की बिटिहिनिन के शरीर मा यूरिया जोरान ही।’

बिजइया जल्दी ही वहां से निपट कर खेतों के रास्ते ही गांव की ओर चला गया। रनिया अभी भी उस हरश्रृंगार के पेड़ की ओर देख रही है। उसने देखा कि सुड्डनवा अब उस पेड़ से उतर कर उसकी ओर आ रहा है।

‘हद्द होइगे। ओतनी देर से ताड़ित ही कि जाने कहां रहिगें। आंय भी हवें कि नहीं। पेड़ तो हरसिंगारेन का कहेन रहा…। लागत है देखात नहीं आय कि दिन निकरियावा…।।’ रनिया सुड्डनवा पर बिफरने लगी।

रनिया और सुड्डनवा दोनो ही हमउम्र हैं। जवान हैं। अभी-अभी दोनो में इश्क हुआ है। हुआ क्या है अभी दोनो प्रक्रिया में ही है। वही आज भोर में बइलहा तारा पर दोनो के मिलने का प्रायोजन था। सुड्डनवा भी कम न था। मोहब्बत पर अधिकार जताना उसे भी आता था। ‘अपने क-कहो यार तुम।

मैं तो अंधेरेन मा आ गैंव रहा। फिर देखेंव कि कउनो आ रहा है। आगे बढ़ेंव, तो रहें बिजइया काका। ऊं.. हिंयन तलाय करे लागें तो मैं कहेंव कि अबहिन देख लई जइहें तो कइहें कि पण्डित जी का लरिका हिंयन का करत हवे।

मैं चढ़ गैंव भाई हरसिंगार के पेड़ मा। अब ओतनेन मा तुम आइव, तो कहेका काका शउंचे आवें तारा कइती। रजा ढेलेन से पोंछ के निकर लिहेन।’

‘हा..हा..हा..हा..हा..हा..।’ दोनो ने जमकर ठहाके लगाए। और संजीदगी से एक-दूसरे की तरफ देखते हुए कल ठीक समय पर मिलने की प्रतिबद्धता जताकर चल दिए।

सुड्डनवा खेतों के रास्ते हाथ झुलाते मस्ती में गाता चला गया और रनिया अपने मूंजों को ठीक तरह से पानी में डुबोकर चंचल चित से अपनी चोटी को उंगलियों में फंसाती हुयी चली जा रही थी। दिन चढ़ने के साथ तालाब में हरश्रृंगार की सुगन्ध भी फीकी पड़ रही थी। वो उड़कर पीछे-पीछे रनिया के साथ कच्ची सड़क के रास्ते उसका पीछा करते चली गयी।

आज गांव में बड़ी रेलमपेल मची है। लोग आ रहे हैं और जा रहे हैं। कुछ सरकारी गाड़ियों की चहल-पहल दिख रही है। पान-परचूनों की दुकानों पर कुछ सरकारी मुलाज़िम खड़े होकर कोने में पीच मार रहे हैं और कुछ हवा में बीड़ी का धुंआ उड़ा रहे हैं।
कुछ ख़ास किस्म की होर्डिंग लगी एक गाड़ी गांव के बीचो-बीच सड़क से गुजर रही है।

गाड़ी के डाले पर बैठा एक आदमी माइक से कुछ महिला- वहिला टाईप बोले जा रहा है। दूसरा, पीले रंग के कुछ रद्दी से पर्चे हवा में उड़ा रहा है जिनको गांव के छोटे-छोटे बच्चे एक हाथ से उठा रहे हैं और दूसरे हाथ से कोई अपनी निक्कर संभाल रहा है, कोई अपनी नाक पोछ रहा है तो कोई उस टॉयर को कीमती कोहिनूर सा धरे है जिसे वो अभी-अभी एक छोटी सी डंडी से पीटता चला आया है।

कुछ ही देर के बाद कलुवा डोमार पूरे गांव में अपनी डुग्गी पीटने लगा और ज़ोर-ज़ोर से कहता- ‘सुनो…! सुनो…!! सुनो…!!! सब गांव वालेन का पंचाइत भवन मा एकट्ठा होएका है। कलट्टर साहेब भांषण देहें। सुनो…! सुनो…!! सुनो…!!!’ सभी पंचायत भवन पर इकट्ठा हैं।

इस भवन की आज कुछ ख़ास तरह से सजावट की गयी है। दीवारों पर तमाम महिला शख़्सियतों की तस्वीरें टंगी हैं। छाया के लिए पीले रंग की तिरपाल लगायी गयी है। महिलाओं के बैठने के लिए मंच से सटाकर एक दरी बिछी है।

उस पर गांव की औरतें बैठी हैं जिनके इर्द-गिर्द कुछ छोटी-छोटी बच्चियां चहक रही हैं। उसके पीछे दो पोलों के सहारे एक रस्सी बंधी है। और फिर उसके उस पार सभी पुरुष जन एकत्रित हैं।

‘अपने बल मा ठाढ़ होव नहीं तो अबहिन उठा के दई मारब घोड़ऊ के।’ सुड्डनवा को किसी ने धक्किया दिया है। ‘मैं नो अहिंउ सुड्डन भइया। य महेन्दवा आय।’‘देखलेव मैं चुपचाप ठाढ़ हों भइया।’ महेन्द्र ने अपनी सफाई दी। ‘मूं बंद कईलेव अच्छा सारेव…। चुप्पे सुनों ओकई का याय होत है।’ सुड्डन ने सावधान किया।

‘क भइया, व जउन फोटू टांगी है। …व जउन मेहेरिया जहाज उड़ावत ‘हां-हां बता।’ सुड्डन ने जल्दी ही उसकी इच्छा जाननी चाही। ‘कहत हें कि व जहाज नहीं उतार पाई रही भुंई मा। सूरज से गरम होइके ओकी जहाज गलगे रहै। फिर वा मरगे?’ महेन्द्र ने अपनी बात ‘गदहा व कल्पना चावला की फोटू आय। सूरज-ऊरज से ओकेर जहाज नहीं गरम भे रही।

चुप्पे देख, का होय जात है हिंया। …अच्छा देख, मंच मा कलेक्टर का तो तैं जन्तेन हन, हना? ईं अपने तहसील की एसडीयम अहीं भला। मेन कलेक्टर जिला मा बइठत है। अउर उनके बगल मा व जउन एक लड़की ठाढ़ ही ना, ओका नाम जन्ते है तैं?’ ‘ससू व मोर फ्रेण्ड ही।’

‘का..! व तुमका जनत ही?’ महेन्द्र को सुड्डन की बातों पर यक़ीन न हो ‘अबे अइसिन नहीं जानत। व हमरे फेसबुक मा हवे। य झार मेहेरियनेन की फोटू डावा करत ही अक्सर।’ महेन्द्र से रहा न गया और वो बोल पड़ा- ‘सुड्डन भइया, बुरा न मानो तो एक बात कही?’

‘कटरीन कैफ क जानत हो ना? व हमार फेरेण्ड आय। मगर व हमका अइसिन नहीं जानत, बाकी ओकेर फोटू हमरे पर्स मा है।’ महेन्द्र ने तफरीह की। ‘बकलोल, तैं जीवन भर गुंहेन उठइहे।

गदहा पर्स औ फेसबुक मा बहुत अन्तर है। अब अन्तर का है, मैं तोहिंका य न बता पइहों समझे? कउनो तैं या तोर बाप मोहिका घिउ नहीं परस जात अहीं। चुप्पे सुन।

देख मैडम का बोल रही हैं।’ सुड्डन ने थोड़ा नाराज़ होकर कहा। मंच पर एसडीएम का भाषण शुरू था। ‘.. तो इस तरह मिस वीणा श्रीवास्तव ने बहुत ही कम उम्र में समाज को ऊंचा उठाने का जिम्मा अपने नाजुक कंधों पर लिया है।

आप सब अगर अपनी औरतों और बेटियों का ज़्यादा से ज़्यादा ख़्याल रख पाएंगे, इज्जत देंगे तो समझना कि आप मिस वीणा जी के कंधों को मज़बूती दे रहे हैं।

आज इस गांव में वीणा जी आपसे अपनी यही बातें कहने आयी हैं। मिस वीणा जी की मदद केलिए हमारा प्रशासन भी इनके साथ हर क़दम पर खड़ा रहेगा मैं इसका विश्वास दिलाती हूं।’

एसडीएम के अन्तिम भाषण के बाद सभी ने तालिंया बजाई। गांव में फिर से लोग बिखरने लगे। औरतें अपने काम पर निकल पड़ीं। छोटे-छोटे बच्चे अपने टॉयर लेकर पगडंडी पर दौड़ने लगे।

आज भोर किसी ने देखी ही नहीं सुड्डनवा को छोड़कर। ख़बर है कि रनिया के घर गाय को बछड़ा हुआ है। वो अपनी अम्मा के साथ उसी नवजात की देखभाल में लगी है। लेकिन सुड्डनवा को बइलहा तारा के किनारे सुकून मिलने लगा था। अब पता नहीं कि ये उस पोखर की सुषमा और उसके आकर्षण का सुकूं था या फिर यहां रनिया के साथ बीते हुए कुछ पलों की स्मृति में डूबने वो यहां चला आना पसन्द करने लगा था।
बहरहाल जो भी हो सुड्डनवा तारा के किनारे आकर फिर से हरश्रृंगार के पेड़ पर चढ़ गया। वहां से पोखर के दृष्टा का दृष्टिकोण ही बदल जाता है, जो उस पोकर के वातावरण को और भी ख़ूबसूरत बना बिजइया को भी आज देरी हुयी थी।

कल शाम को चौपाल के बाद कुछ दिलदार बड़े-बुज़ुर्ग खेलावन के ट्यूब-वेल का रुख़ कर गये थे। उसमें बिजइया भी शामिल था। दरअसल गांव के खेलावन मुराई के ट्यूब-वेल पर ‘कच्ची’ बनने का चलन है।

‘कच्ची’ एक तरह की शराब है जो महुआ के फूलों को सड़ाकर तैयार की जाती है। तो फिर क्या था, कल जमकर बनी और ठूंसकर चली। सो बिजइया ने भी अपने नटई तक गटकी थी कल।

इसी कारण आज देर तक वो बिस्तर न छोड़ सका था। ख़ैर, बिजइया आकर सरपत की आड़ में नित्य-क्रिया में लग गया। कल की एल्कोहल से उफनते पेट ने गुर्राहट मचाई और कुछ पड़..पड़..पड़…. की आवाज़ फूट पड़ी।

ये आवाज़ वहां.. हरश्रृंगार के पेड़ पर चढ़े सुड्डनवा के कानों तक जा पड़ी। सुनकर सुड्डनवा भुकभुका गया, क्योंकि उसकी पोखर से नैनमिचोली जो टूट गयी थी। उसने एक सांस में बिजइया को दसों गालियां दे डाली।

लेकिन फिर भी उसका मन भरा नही। उसका पोखर की ओर से ध्यान भंग हो चुका था। रनिया भी उसके साथ ना थी जो उसका ध्यान लगा रहता। फिर भई ख़ाली दिमाग़ शैतान का घर। बला शैतान क्या न कर जाए।

उसने झटपट अपने जेब से मोबाइल- फोन निकाला और बिजइया की चार-पांच तस्वीरें अपने मोबाइल-फोन के कैमरे में क़ैद कर लीं। ‘हरामखोर क यही जघा मिला करत ही उफरे का।’ बिजइया के शौच कर चले जाने के बाद सुड्डनवा पेड़ से नीचे उतर कर भुनभुना रहा था। वो घर जाने कोमुड़ा। पीछे रनिया खड़ी थी।

‘का हो बांके बिहारी के लाल! तनी थम भी जाओ।’ रनिया ने सुड्डनवा से मसखरी की। ‘देख रे हम कतो अपने बाप का नाम नहीं लीना अइसी जबान से। तैं हमरे बाप तक न चढ़ जानिन, नहीं तो ठीक न होई हां।’ ‘तो जइसे ठीक होय कइ देव पण्डित जी।’

रनिया अपनी चोटी हिलाकर ‘मोका ठीक तो करेन क परी, मगर तोहिंका नहीं बिजइया काका का।’ सुड्डनवा का मुंह अब भी लाल है। ‘का हो! का अनर्थ कई डाएन बिजइया काका एतना, जउन या पेड़ा जइसन मूं बनाएव है।

एका तनी लड्डू जइसे रहै देव ना। हां, अब बताओ का बात है?’ रनिया सुड्डन का हाथ पकड़कर पोखर की तरफ चलने लगी। ‘यार जब देखो पिछुआरा उनार के हिंया फड़फड़ाय लागा करत हंवें।

ससुरन का हग्गे का जगेन हस कहूं नहीं मिला करत ही। तुम ख़ुद बताओ हिंया, य तारा किनारे केतना बढ़िया लागत हवे, हांय..। कउनतान केर आनन्द हिंया हवे। मगर यहू तलक का गंधुवाय रहत हैं ईं घोड़ा हरे। मै आज एहिकी सारे की हगत की फोटू खींच लिये हौं।’ ‘हरामी…।।’

‘हरामी नहीं, एहिका मैं डइहों फेसबुक मा। अउर ऊपर हेडिंग लिखिहों गुड मारनिंग।’ ‘कस्सम से तुम हो बड़े वा। पता है इंटरनेट मा चला जाई तो हर कोऊ देखी। जउन देखी व मड़ई का कही?’

रनिया को चिन्ता थी। ‘मड़ई का कही। शहरन के बड़े-बड़े स्वीमिंग-पुलन मा भी भला मड़ई शउंचत हें का। हुंआ तो मड़ई चाव से सिर्फ़ बइठा करत हें। तो तुम अपने गांव मा भी समझो य बइलहा तारा आय स्वीमिंग पुल। अउर हम, तुम अ ईं बतख्खें आई हंवें हिंया घूमें।

तो ससुर बिजइया काका कउन होत हंवें हिंया हगे वाले। य तारा उनके बाप की कउनो बपउती आय का।’ सुड्डनवा जज़्बाती होता चला गया। और रनिया भी उसकी धारा में साथ बहती चली जा रही थी। ‘हुंआ शहरन मा इनकी सबकी सरकार देखभाल करत ही। हिंया तो परधानिन का लरिका दहिजार खुदेन खेतहा मा जात है।’

‘देख रनिया, खेतहन का तो मैं ठेका नहीं लिहों मग़र आज से मैं यही हरसिंगार के पेड़े मा बइठा करिहों अउर जउन भी हग्गे आयी ना, ओहिकी फोटू मैं फेसबुक मा ओहिके सारे के नाम-गांव सहित डइहों…।’ सुड्डन का निश्चय दृढ़ था। ‘ठीक है डाएव। यही बहाने हम पंचेन का य तारा किनारे बढ़िया होईजाई घूमे-टहरे का।’ रनिया भी सुड्डनवा के साथ थी।

सुड्डन ने वहीं तारा किनारे बैठे-बैठे अपना फेसबुक खोला और बिजइया की खींची गई तस्वारों में से उसने चार तस्वीरों का एक कोलेज बनाकर ऊपर लिखा-

‘गुड मॉर्निंग… नाम-बिजइया काका उम्र-लगभग 48 साल गांव- सरसई ख़ुर्द पता- पक्की कुंआ के सामने, सहेंड़वापर, सरसई ख़ुर्द, खागा-फ़तेहपुर दोस्तों इनकी ओर से आप सभी लोगों को खुली हवा का सलाम तोहफ़ा।’ और पोस्ट कर दिया। पायज़ेब की छनछन…। कन्धे पर मूंज का एक ढेर। एक हाथ में घी से भरा दीपक और दूसरा हाथ मूंज के ढेर पर। कमर हिलाती आयी रनिया तारा के समीप पहुंची।

वो आज जल्दी आ गयी है। उसने घी का दीया जलाकर बइलहा तारा में छोड़ा ही था कि पीछे एक और जलता घी का दीपक लिये सुड्डनवा भी खड़ा था। ‘का रे, तोर महतारी तो बड़ी चुगुलखोरिन निकली।’ का भा..? देखो हो, फिर तुमहूं हमरे महतारी तक न चढ़ो जानेव।’ रनिया बात समझी ही न थी।

‘काल उईं दुपहरिया मा मोरे दुआरे बइठी रहीं, तबहिन मैं सबके सामने कहे रहेंव की नदी-तलाव मा घी का दिया छोड़ब शुभ होत है। नदी- तलाव खुश रहत हैं तो आनन्द बढ़त है। अउर उईं रहीं कि टीप दिहिन जाके तोसे। तउन तहूं घी केर दिया लइके चली आइन हिंया।’

‘हाय दइया.., जउन झूठ बोले सरगे जाए। हमार अम्मा कुछू नहीं कहिन हमसे। हम तो ई सब खुद सोचा रहा अउर यही से एक बोझ मूंज भी ले आवा कि पानी मा डाल के हिंयेन बइठब, ताकी कोऊ भी हमका तारा किनारे देख के तारा मा शउंचे न आई। जइसे व दिन बिजइया काका।

याद है न…? जब ढेला.. हां?’ रनिया ने अपनी सफाई दी। सुड्डनवा को अब काटो तो ख़ून नहीं। वो शान्त वहीं खड़ा रनिया का मुंह ही ताड़ता रह गया। जब तक रनिया शान्त होती उससे पहले ही उसने झुककर पोखर को दीपदान कर दिया और वहीं चुपचाप बैठा रहा। रनिया भी उसे देखकर उसके समीप बैठ गयी।

‘का देखत हो?’ ‘दुइनो दिया।’ सुड्डन संजीदा था। ‘का चहती है रे रनिया, ईं दुइनो दिया कब तलक जलत रहें..?’ सुड्डन ने बात ज़ारी रखी। ‘जब तलक ई तारा मा पानी रहे।’ रनिया अपने मन की बात कहने की कोशिश कर रही थी। ‘तब तो हमका मिलके य तारा के पानी की रक्षा करे क पड़ी।’

‘तबहिन तो आज एमा लौ जलाए दिया हवे रे।’ रनिया ने और भी स्पष्ट करते हुए सहमति दे दी। दोनो ही कुछ क्षण के लिए वहीं लेट गये और करवट लेकर एक-दूसरे की आंखों में आंखें डालकर और शब्दों की आवाजाही को थामकर बस, पोखर में बहते हुए दीपकों की लौ को ही अपने-अपने हृदय के शान्त जल में बहने दिया…। जलने दिया…। धूप चिलचिली हो चली है। हरश्रृंगार के पेड़ पर चढ़े-चढ़े सुड्डनवा को काफी समय हो गया।

हालांकि उसने अपने मोबाइल-फ़ोन के कैमरे से सत्तर बरस के रामाधीर की तस्वीर ले ली थी, उसी अवस्था में जैसे उसने बिजइया की तस्वीर ली थी। लेकिन फिर भी सुड्डनवा बिजइया की ही प्रतीक्षा में अब तक पेड़ पर चढ़ा बैठा है। तब भी बिजइया नहीं आया तो नहीं आया।

सुड्डन ने बुज़ुर्ग रामाधीर की भी तस्वीर को फेसबुक पर उनके नाम- पहचान व पता के साथ पोस्ट कर दी। ‘बिजइया काका तीन-चार दिन से तलाय कहे नहीं आ रहे हैं इधर? वही दिन से रामाधीर बाबा भी नहीं दिखाई दिहेन!

ओके बाद तो तुनुवा का बापो नहीं आवा आय! ईं सब मोरे बारे मा जान तो नहीं गें आय कि मैं इनकी फोटू खईंच लेत हों?’ सुड्डन आज सुबह से हरश्रृंगार के पेड़ पर चढ़ा सिर्फ़ ख़ुद से ही बातें करता रहा।

ये सब सोचकर उसकी चिन्ता बढ़ रही थी। लेकिन उसकी ये चिन्ता उसके लिए कोई मामूली चिंता न थी। वो झटपट नीचे आया और रनिया के पास जाकर अपनी चिन्ता का कारण बताया। रनिया को भी इस मामले के बारे में कुछ ख़ास समझ नहीं आ रहा था। आज की खींची गयी तस्वीरों को पोस्ट करने के बाद सुड्डन सीधे बिजइया के घर पहुंचा।

‘बिजइया काका…। वो बिजइया काका…।।’ ‘कस लाला सुड्डन, का हाल हवे?’ बिजइया लाल चौकड़ी की कमीज़ पहने घर से निकलकर सुड्डन से मुख़ातिब हुआ। ‘कुच्छू नहीं काका, खेतहन कइती जात रहेंव तो मैं कहों कि काका केर हाल-चाल लेत चलों बहुत दिना से भेंट न भे रही।’

‘सब भगवान की किरपा है लाला। तनी घर मा सण्डास आय बनुवावत रहेन। कइउ दिना से लागा लगुवाय रहा, बस नचका याई है। यही के मारे तनी के निकर नहीं पउतेंव आय घर से।’ ‘कहो, अबे तो गांव मा निरा ससू फिरे की जगह परी हवे, चहे जउने कइती निपटियावे। बइलहा तारेन कइत अबे महाव जगह परी है।’ सुड्डन ने बिजइया के विचार जानने के लिए ये सब कहा।

‘अरे नहीं हो लाला, नीक-सूक तारा कइत गन्दगी करब ठीक नही आय।’ ‘एहिकेर एण्टीना आज बीबीसी लंदन कहे पकड़ रहा है।’ सुड्डन ने ख़ुद से ‘है की नहीं लाला..?’ बिजइया ने सहमति मांगी। ‘आंए…! हां.. हां-हां।’ सुड्डन समझे-नासमझे अपनी सहमति बिजइया को देकर आगे बढ़ गया।

अब तो सुड्डन की चिन्ता और बढ़ गयी। ये अचानक से बिजइया को क्या हो गया? इसके विचारों में ये परिवर्तन कैसे आया? और अचानक से इसकी मदद किसने कर दी? ऐसे ही तमाम सवाल सुड्डन के दिमाग़ में रथ हांकने लगे।

वो भागकर रामाधीर बाबा के घर पहुंचा। पूरी तफ़्तीश के बाद सुड्डन की चिन्ता और भी भारी पड़ने लगी, क्योंकि जो हाल बिजइया का था वही रामाधीर के घर पर भी था।

रामाधीर के घर पर भी शौचालय बनने के लिए गड्ढा खोदा जा चुका था। सुड्डन ने दो और उन घरों के चक्कर काटे जिनकी तस्वीर उसने अपने फेसबुक पर अपलोड की थी।

उन सभी के घर पर भी शौचालय बन रहा था। सुड्डन हैरान था। उस दिन सुड्डन को रात भर नींद नहीं आयी। ‘बाबा य कउनो मन्तर-वन्तर नो हाय, बिना मतलब मा घबराओ ना।’

रनिया सुड्डन को उसकी चिन्ता का विश्लेषण करके समझाने में व्यस्त है। ‘फिर य कसत होइ सकत है रनिया, कि हम जेकी-जेकी फोटू खींचा ओके-वओके घर मा सण्डास बने लाग?’ ‘तो तुम एसे खुश नहीं हो का कि सब लोग अब बाहर न अइहें तलाय फिरे। एसे तो य तारो साफ-सुथरा बनी।’ रनिया ने पूछा।

‘नहीं मैं खुश तो हों। मगर फिरो यार एमा कउनो जादू-मन्तर लागत है मोका।’ सुड्डन ने अपनी चिन्ता को स्पष्ट करते हुए उसे ज़ारी रखा। ‘तुम चुप्पे-चाप आपन काम चालू रक्खो।’ रनिया ने सख़्त होकर सलाह सुड्डन ने रनिया की बात मान ली और झट से हरश्रृंगार के पेड़ पर चढ़ गया, किसी अगले को अपने मोबाइल-फ़ोन के कैमरे में कैद करने को।

पूरे दो महीने बीत गये। गांव के लगभग हर उस घर में जहां शौचालय नहीं था, या तो बन चुके हैं या फिर अभी बन रहे हैं। लेकिन सुड्डनवा की चिन्ता अभी भी वही की वही बनी है, कि आख़िरकार ये सब अचानक से एक साथ कैसे होने लगा।

इस बीच वो एक तांत्रिक से भी मिल चुका है कि बाबा जाने किसके तन्त्र-मन्त्र से ये सब हो रहा है। मैं खुले में शौच करते हुए जिसकी भी तस्वीर फेसबुक पर डाल देता हूं उसके घर में सण्डास बनने लगता है, जबकि मैं चुपचाप ही ये सब करता हूं, बिना किसी से बताए, बिना किसी से कुछ भी कहे। इस मन्तर का कोई पार नहीं।

लेकिन सुड्डन अन्दर से बहुत ही ख़ुश है, क्योंकि अब बइलहा तारा के पास कोई गन्दगी करने नहीं आता है। दिन ढल रहा है। मौसम सुहाना हो गया है। पक्षी अपने विहार से वापस लौट रहे हैं। पेड़ों ने धीरे से अपने पत्तों को हिलाकर फिर से स्निग्धता ओढ़ ली है।

हरश्रृंगार के पेड़ पर कलियां आयी हैं, उसकी सुगन्ध धीरे- धीरे प्रकृति की रूह में मिलने लगी है। बतख्खें बइलहा तारा में उतरने लगी हैं। सूरज भी शान्त भाव से अपने घर को वापस जाने को विदा मांग रहा है। और हरश्रृंगार के पेड़ के नीचे सुड्डन रनिया के साथ बैठा है।

लेकिन उसकी चिन्ता अभी भी उसी तरह जस की तस बनी हुयी है, ये सब किसका मन्तर है…? दूर से कहीं कलुवा डोमार के डुग्गी की आवाज़ आ रही है। रनिया सुनकर उठ खड़ी हुयी।

उसने गांव की तरफ नज़र दौड़ाईतो हाल ग़ज़ब था। रनिया थोड़ा घबरा सी भी गयी। गांव के कुछ लोग अपने हाथों में जलती हुयी मशाल लेकर बइलहा तारा की ओर तेज़ी से बढ़े आ रहे हैं। रनिया के मन में अनजाना सा उहापोह चल रहा है। लेकिन सुड्डन शान्त वहीं पर बैठा रहा.. उदात्त, निश्चल और बेफ़िकर…।

‘सुड्डन देख गांव वाले इधरेन चले आवत हें। उनके हाथ मा मशाल भी हवे। का होइगा..?’ ‘मन्तर…। य वहीं मन्तर का हिस्सा आये। मान या ना मान रनिया, मगर देखिस कुछ तो है। हल यही मा है।’ गांव वालों का हुजूम एकदम बइलहा तारा के समीप था।

कलुवा डोमार ने आवाज़ लगाई- ‘सुड्डन महराज…। ओ सुड्डन महराज…।। देखो तुमसे मेम साहब मिले आयी हवें।’ सुड्डन ने खड़े होकर अपना हाथ हिलाया। सभी उसके पास आ पहुंचे। सुड्डन ने देखा कि गांव वालों के हाथों में जलती मशालों की रोशनी
बइलहा तारा में पड़ते ही वो चमक उठा।

सुड्डन के साथ गांव वालों ने भी ये मनोरम दृश्य देखा। वास्तव में सरसई ख़ुर्द गांव में ये नज़ारा इससे पहले कभी नहीं देखा गया था। सुड्डन के दिमाग़ में जो मन्तर का बादल उमड़-घुमड़ रहा था, अब वो कुछ-कुछ झड़ने लगा था। सामने अपने फेसबुक की उस मित्र वीणा श्रीवास्तव जो उस दिन एसडीएम साहिबा के साथ पंचायत भवन में भाषण दे रही थी, को देखकर हैरान लेकिन संदेह से परे था।

‘हैलो सुड्डन! मै वीणा, एक सामाजिक कार्यकत्री हूं। मुझे फेसबुक पर आपके पोस्ट लगातार मिलते थे और मै उनको फॉलो करती गयी। मैने उन पर अच्छी तरह से विचार किया और एसडीएम के साथ मिलकर सोचा कि अग़र यही तस्वीरें औरतों व महिलाओं की होती तो क्या…?

ज़ाहिर है कि उन सबकी भी ऐसी ही तस्वीरें होती हैं जिन्हे लोग अपनी नंगी आंखों से देखते भी होंगे। तब सोचो, क्या हमारी बहू-बेटियों को शौच के लिए घर से बाहर जानी चाहिए? आपने सोशल नेटवर्किंग टूल का अच्छा उपयोग करके अपने गांव की सबसे ज़रूरी समस्या को हमारे सामने रखा है सुड्डन।

इसके लिए हम सब और पूरा गांव आपका आभारी है। आपने गांव में बदलाव लाया है।’ सुड्डन को अब भी कुछ समझ में नहीं आ रहा है कि ये सब क्या हो रहा है।

लेकिन जो भी हो रहा है उससे वो ख़ुश बहुत है और सबसे ज़्यादा ख़ुश तो वो इस बात को लेकर है कि उसके मन्तर की शंका का समाधान हो चुका है। वो अब समझ चुका है कि ये मन्तर तो फेसबुक नाम के इसी जन्तर(यन्त्र) का है, जिसे वो उपयोग में लेता है।

सभी बारी-बारी से सुड्डन को बधाईयां देने लगे। वो आज असीमित आनन्द में डूबा सबकी बधाइयां स्वीकार कर रहा है।

लेकिन उसका चित मशालों की रोशनी में नहाए इस बइलहा तारा के आनन्द के साथ उसकी प्रगति का जश्न मना रहा है, जो एक जन्तर के मन्तर से सम्भव हो पाया है।

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सबसे लोकप्रिय

To Top